स्वास्थ्य

पित्त और अम्लपित्त का घरेलू इलाज – Pitta In Hindi

Bile and Acidity (Pitta Dosha) Home Remedies in Hindi

पित्त दोष का इलाज – इस पोस्ट मे हम आप को पित्त और अम्लपित्त के घरेलू इलाज और उसके लक्षण के बारे जानकारी देने कि कोशिश करेंगे. पित्त तब होता है जब पित्त, आपके जिगर में निर्मित एक पाचन तरल, आपके पेट में और (कुछ मामलों में, आपके मुंह और पेट में घेघा) को जोड़ने वाली नली में वापस आ जाता है. पित्त पेट के एसिड (गैस्ट्रिक एसिड) के साथ आपके अन्नप्रणाली में हो सकता है. जिस मे गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी) का कारण बन सकता है, एक संभावित गंभीर समस्या जो एसोफैगल ऊतक की जलन और सूजन का कारण बनती है.

गैस्ट्रिक एसिड के विपरीत, पित्त को आहार या जीवन शैली में परिवर्तन द्वारा पूरी तरह से नियंत्रित नहीं किया जा सकता है. उपचार में दवाएं शामिल हैं और , गंभीर मामलों में, सर्जरी.

अम्लपित्त व पित्त

अम्लपित्त व पित्त एक कड़वा हरा-भूरा-क्षारीय तरल पदार्थ जो पाचन में सहायता करता है और यकृत द्वारा स्रावित होता है और पित्ताशय में जमा होता है, जब शरीर में इसकी मात्रा बढ़ जाती है तो निचा दिए हुआ लक्षण होते हे. पेट में कब्ज के दौरान भी अम्लपित्त बनने लगता है.ये अक्सर ज्यादा तला हुआ,नमकीन,बहुत मसालेदार,मीट,शराब,धूप में ज्‍यादा रहने,ज्‍यादा आराम तथा ज्यादा खाने के करना होता है.

पित्त के लक्षण (Pitta Dosha ke lakshan)

  • उलटी आना
  • पेट भारी – भारी लगना
  • सर दर्द देना
  • आखे भरी होना
  • खाना खाने का मन नहीं करना
  • घुस्सा आना
  • छाती में जलन
  • हरे-पीले द्रव (पित्त) की उल्टी
  • आपके मुंह में खट्टा स्वाद होता है

पित्त के घरेलू उपचार – (Pitta ke upay Hindi)

1.भोजन के बाद अम्लता महसूस हो तो शहद में मुनक्का, हरड़ के पावडर को मिलाकर सेवन करने लाभ मिलेगा.
2.अजवायन का चूर्ण शहद में मिलाकर लेने से बदहजमी दूर होती है.
3.एक ग्राम सौंठ के चूर्ण में चुटकी भर हींग और सैंधा नमक मिलायें बदहजमी दूर होती है.
4.आँवले का पावडर सादा पानी के साथ लेने से अम्लता दूर होती है.
5.अजवायन और नमक की फंकी गरम पानी के साथ लें, कब्ज दूर होगा.
6.एक चम्मच खाने वाला सोडा तथा नीबू का रस पानी में मिलाकर रात को सोने से पहले लें.
7.10gm हींग पानी में घोलकर पीयें.
8.50 मि. लि. गौमूत्र में एरंड का तेल मिलाकर पीने से पित्त की शांति होती है.
9.गर्मी की वजह से पित्त की शिकायत है तो एक कप मूली के रस मे मिश्री मिलाकर पीने से लाभ होता है.
10.एक सादे पानी के गिलास में काली मिर्च और मिश्री मिलाकर पीने से पित्त ठीक होता है.
11.एककच्चा लहसुन की दो कली+ एक तोला अदरक +आधा चम्मच काला नमक + आँवले का पावडर मिलाकर सादा पानी के साथ लेने से काफी आराम मिलता है.

पित्त डॉक्टर को कब दिखाना चाहिये?

यदि आपका  बार-बार बिना किसी कारण के वजन कम हो रहा है, या यदि आप वजन कम कर रहे हैं, तो अपने चिकित्सक के साथ एक नियुक्ति करें. यदि आपको जीईआरडी का निदान किया गया है लेकिन आपको अपनी दवाओं से पर्याप्त राहत नहीं मिल रही है, तो अपने डॉक्टर को बुलाएं, आपको पित्त के लिए अतिरिक्त उपचार की आवश्यकता हो सकती है.

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button