जानकारी

हिंदी दिवस क्या है और कब मनाया जाता है – Hindi Diwas Kya Hai

International Hindi Day Information in Hindi

विश्व हिंदी दिवस जानकारी – हिंदी दिवस भारत में इसलिए मनाया जाता है क्यू की 14 सितम्बर 1949 में भारत ने हिंदी भाषा को अपनी मातृभाषा घोषित किया था. उसके बाद से ही 14 सितम्बर में हिंदी दिवस के नाम से मनाया जाता है.

हिंदी हमारे भारत देश की मातृभाषा है, भारत में हिंदी कोई सेकड़ो वर्षो से बोली जाती है. माना जाता है की हिंदी से पूर्व भारत के संस्कृत बोली जाती थी. भारत पर निरन्तर आक्रमण के कारण संस्कृत भाषा का प्रयोग कम होते चला गया. आज संस्कृत भाषा को जानने व बोलने वालाे बहुत ही कम लोग बचे है और. आने वाले कुछ सालो में संस्कृत भाषा पूरी तरह से विलुप्त हो जाएगी .

अंग्रेजी के बढ़ते हुआ प्रभाव को देखकर असा ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की आने वाला कुछ सेकड़ो वषो में हिंदी भाषा को जानने वाले कुछ ही लोग बचेंगे, इस लिए हमे अपनी मातृभाषा का ही प्रगोय करना चाहिए और जितना हो सके अपनी मातृभाषा हिंदी का प्रयोग करे. Hindi diwas date is 14 September.

हिंदी भाषा दुनिया में बोली जाने वाली सबसे बड़ी तीसरी भाषा है, पहले नम्बर पर अंग्रेजी भाषा है और दूसरे नंबर पर चीनी भाषा है. हिंदी भाषा याने की हमारी मातृभाषा को पूरी तरह से जानने वाले बहोत ही कम लोग है. बहोत से लोग हिंदी भाषा के बहोत से शब्दों में अंग्रेजी के शब्दों का प्रयोग करते है जिससे की हिंदी भाषा विलुप्त हो रही है.

हिंदी दिवस पर कविता
हिंदी दिवस पर कविता

हिंदी दिवस का इतिहास (Hindi Diwas ka Etihas)

  • हिंदी भाषा को भारत की मातृभाषा बनाने के लिए सबसे पहले 1918 में पहला कदम रखा गया, महात्मा गाँधी में हिंदी भाषा को जनसभा की भाषा कहा और इसे भारत की मातृभाषा बनाने को कहा.
  • 1947 की आजादी के बाद हिंदी भाषा के मातृभाषा बनाने के लिए हजारी प्रसाद द्विवेदी, सेठ गोविन्ददास, काका कालेलकर, मैथिलीशरण गुप्त और राजेन्द्र सिंह आदि लोगो ने बहोत प्रयास किया.
  • 1449 से लेकर 1950 तक बहोत से लोगो ने हिंदी भाषा को मातृभाषा बनाने किये जोर दिया और 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा के एक मत से हिंदी भाषा को मातृभाषा घोषित कर दिया.
  • हिंदी भाषा को मातृभाषा बनने के राजेन्द्र सिंहा ने बहोत लम्भा संघर्ष किया था.
  • 26 जनवरी 1950 भारत ने अपना सविधान अपनाया, इसी के साथ राजभाषा नीति भी लागू हुई और अनुच्छेद 343 के तहत भारत की राजभाषा हिंदी और लिपि देवनागरी कर दी गई.
  • 26 जनवरी 1965 में एक विधेयक पारित हुआ और सभी सरकारी कार्यो में हिंदी के इस्तमाल के लिए कहा गया, इसके साथ साथ वो अंग्रेजी का भी इस्तमाल केर सकते है.

हिंदी दिवस का महत्व क्या है (Hindi Diwas Ka Mahatwa)

हिंदी दिवस भारत के लिए बहोत ही महत्व का दिन है, 14 सितंबर 1949, इस दिन हिंदी को भारत की मातृभाषा घोषित किया गया था. हमे हिंदी दिवस को जरुर मनाना चाहिए इससे हिंदी भाषा का महत्व बढ़ेगा और समाज में जागरूता आएगी.

14 सितंबर को हिंदी दिवस क्यों मनाते हैं?

14 सितंबर 1449 को संविधान सभा के एक मत से हिंदी भाषा को मातृभाषा घोषित किया गया था इस लिए हम 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाते हैं.

हिंदी दिवस पर क्या करना चाहिए?

हिंदी दिवस पर हमे कई कार्यक्रम करने चाहिए, छात्रो को दैनिक व्यवहार में हिंदी का उपयोग करना चाहिए, आप कोई प्रकार की प्रतियोगिताओ का आयोजन कर सकते है जैसे की हिंदी निबन्ध लेखन, हिंदी में वाद-विवाद, हिंदी कविता, काव्य रचना और अन्य कोई प्रकार के प्रतियोगिता कर सकते है.

हिंदी दिवस पर कविता (Hindi Diwas Poem Images)

 

hindi diwas poem
Hindi Diwas poem
हिंदी दिवस पर कविता
हिंदी दिवस पर कविता

हिंदी दिवस की शुरुआत कब से हुई?

हिंदी दिवस की शुरुआत 14 सितंबर 1449 को हुई थी.

और पढ़े –

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button