स्वास्थ्य

पायरिया का घरेलू उपचार – Payria ka Ilaj

पायरिया का सफल इलाज

पायरिया एक दातो और मसूढ़ों पर होने वाला रोग है और यह रोग काफी हानिकारक है. यह रोग दांतों के साथ मसूढ़ों को भी बहोत ज्यादा प्रभावित करता है. पायरिया रोग को पहचाना बहोत ही आसान है और इसके लक्षण भी आसानी से दिक जाते है. पायरिया रोग का घरेलु इलाज भी बहोत आसान है. यदि सही समय पर ध्यान न दें तो यह रोग काफी बढ़ सकता है और दातो को भी निकालने पड़ सकते हैं.

पायरिया मसूड़ों का एक गंभीर संक्रमण है. यह बैक्टीरिया के कारण होता है जिसे आपके दांतों और मसूड़ों पर जमा होने दिया गया है. जैसे-जैसे पायरिया बढ़ता है, आपकी हड्डियाँ और दाँत क्षतिग्रस्त होने लगते हैं. हालांकि, अगर पायरिया का जल्दी इलाज किया जाता है और उचित स्वच्छता बनाए रखी जाती है, तो पायरिया को जल्दी रोका जा सकता है.

इस लेख में आपको पायरिया के लक्षण, इलाज और पायरिया किस कारण से होता है इस की जानकारी मिलेगी.

पायरिया किन कारणों से होता है – Payria ke Karan

  • रोजाना दातो की सफाई ना करने से यह रोग हो सकता है, क्यू की अन्न के कुछ कण आपके दातो में रहते है और वे सड़न पैदा करते हैं जिससे पायरिया का खतरा बड़ जाता है.
  • अनियमित रूप से खाना खाना, इससे खाना सही रूप से नहीं पचता है. खाना सही रूप से ना पचता ही बहोत से रोगो का कारण होता है.
  • शरीर में अम्ल का बढ़ना, यह मुख्य तह लि‍वर की खराबी के कारण होता है और यह भी एक पायरिया का कारण हो सकता है.
  • गुटखा, तम्बाकू, पान, मांसाहार इत्यादि पदार्थों का अत्यधिक मात्रा में सेवन, भोजन को ठीक से चबाकर न खाना आदि बहोत से पायरिया के कारण हो सकते है.

पायरिया के कुछ मुख्य लक्षण – Payriya ke Lakshan

  • मसुड़ों को जरा सा दबाने पर या फिर ब्रश करते समय खून निकलता है.
  • सांसों से बदबू आना पायरिया का एक मुख्य लक्षण है.
  • दांतों में दर्द रहता है.
  • दांत तथा मसूड़े पिले पड़ जाते है.

पायरिया के कुछ घरेलू उपाय – Payria ka Gharelu Elaj

पायरिया के लिए टूथपेस्ट अगर आप देख रहे हो तो सैंधा नमक वाली टूथपेस्ट आप इस्तेमाल कर सकते हो. कुछ पायरिया का सफल इलाज निचे दिया गया है.

1.सेंधा नमक और कालीमिर्च और तम्बाखू की पत्तियों को समान मात्रा में लेकर उसका बारीक पावडर बना लें और इस पाउडर को सरसों के तेल में मिलाकर रोजाना मंजन करें.
2.पीपल की ताजी दतून करने से दांत मजबूती से जम जाते हैं.
3. कत्था+मालश्री की छाल, नीम की छाल, सेंधा नमक और दो लौंग लेकर सभी को समान मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना लें और दांतों में मंजन की तरह लगायें.
4. फिटकरी-खिला सुहागा और सेंधा नमक बराबर मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बना लें तथा मंजन की तरह उपयोग करें इससे भी आराम मिलता है.
5. जीरा सेंधा नमक हरड़ दालचीनी, शुद्ध कुचला, सुपारी, मौलश्री की छाल और अकरकरा-समान मात्रा में लेकर किसी बन्द बर्तन में जलायें तथा बाद में महीन पावडर बनायें और मंजन की तरह उपयोग करें.
6. नीम की कोमल पत्तियाँ, कालीमिर्च, और काला नमक का पावडर बनाकर प्रतिदिन प्रातःकाल सेवन करने से लाभ होता है.
7.इलायची, लौंग खस के तेल (तीनोंका तेल) को बराबर मात्रा में मिलाकर दांतो पर मलने से पायरिया ठीक होता है.
8.आँवला जलाकर उसमें थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर सरसों के तेल में रगड़ने से पायरिया दूर होता है.
9. नीम की कोमल पत्तियों का काढ़ा बनाकर दिन में दो-तीन बार कुल्ला करने से बहोत आराम होता है.
10. मेंहदी का काढ़ा बनाकर इसी भांति कुल्ला कर सकते हैं.
10. मौलश्री की छाल को बारीक पीसकर चूर्ण बना लें और उसे सुबह-शाम दांतों पर मलें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button