Uncategorized

शीघ्र पतन व शीघ्र स्खलन के कुछ लक्षण, कारण व घरेलू उपाय – sheeghr patan ke kuchh lakshan, kaaran va ghareloo upaay

premature ejaculation in Hindi

शीघ्रपतन जिसे हम शीघ्र स्खलन भी कहते है, आज हम आपको शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के बारे में बहोत जरुरी जानकारी देंगे और उसके साथ साथ उसके कुछ खरेलु इलाज भी बतायंगे.

शीघ्रपतन एक सामान्य यौन विकार है जिसे में पुरुषों के नियंत्रण के बिना या प्रवेश के तुरंत बाद या व्यक्ति की इच्छा से पहले होता है. शीघ्रपतन के कारण बहोत सा पारिवारिक विवाद उत्पन होता है. शीघ्रपतन प्रायः उन लोगों को होता है जो प्रकृति के विरूद्ध सहवास की प्रक्रिया अपनाते हैं जैसे की हस्त मैथुन, मुख मैथुन करना या अत्यधिक अश्लील साहित्य पढ़ते हैं अथवा अत्यधिक सम्भोग में रहना.

इस बीमारी का प्रमुख लक्षण यह है कि संभोग के समय पुरूष स्त्री को संतुष्ट करने से पूर्व ही स्खलित : हो जाता है और इसी को शीघ्रपतन कहते हैं. कई बार तो स्त्री का आलिंगन करने या चुम्बन लेने मात्रा से ही पुरूष स्खलित हो जाता है. लेकिन घरेलू चिकित्सा करने और अच्छा साहित्य पढ़ने से यह बीमारी आसानी से दूर हो सकती है.

शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन होने के कुछ लक्षण

  • शीघ्र स्खलन उत्तेजना के कुछ सेकेण्ड या मिनट के भीतर ही हो जाता है.
  • इण्टरकोर्स आरम्भ होने के 60 सेकेण्ड के अन्दर ही पुरुष का वीर्यपतन हो जाता, तो इसे शीघ्रपतन की समस्या समझनी चाहिए.
  • संभोग क्रिया शुरू होते ही, या होने से पहले वीर्यपतन हो जाता है तो इसे भी शीघ्रपतन होने की संभावना है.

शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन होने के कुछ मुख्य कारण

जीवन के इस भाग तोड़ भरी जिंदगी में वरिवारिक समस्याएं काफी बढ़ गई है. इस समस्या में से एक है शीघ्रपतन, शीघ्रपतन होने के बहोत से कारण हो सकते है कुछ मनोवैज्ञानिक कारण है तो कुछ बायोलॉजिकल कारण है. मानसिक तनाव होने की वजह से सेक्स हार्मोन्स जैसे-टेस्टेरोन हार्मोन आदि असंतुलित हो जाते हैं और ये रोग हो सकता है.

मनोवैज्ञानिक कारण जिससे शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन होता है

  • मानसिक तनाव जिसे हम डिप्रेशन भी कहते है.
  • जिन पुरुषों को Erectile disfunction है, उन्हें यह समस्या ज्यादा होती है.
  • समय से पहले वीर्यपतन के बारे में अधिक सोचना या चिंता करना या फिर क्रिया के बारे में ज्यादा सोचना.
  • यौन अनुभव की शुरुआती स्थिति में भी शीघ्रपतन होता है.
  • पारीवारिक विवाद व संबंधी समस्याओं के कारण शीघ्रपतन हो सकता है.
  • शीघ्रपतन का कारण अधिकतर लोगों को ज्यादा चिंता करने से होता है.

बायोलॉजिकल कारण जिससे शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन होता है

  • मूत्रमार्ग या प्रोस्टेट ग्रन्थि में संक्रमण होना.
  • शरीर में Testerone harmone का असामान्य होना.
  • सर्जरी या मानसिक अघात के कारण शीघ्रपतन की समस्या हो जाती है.
  • आनुवांशिकता की वजह से भी शीघ्रपतन की समस्या हो सकती है.

शीघ्रपतन होने के कुछ अन्य कारण भी हो सकते है

  • ज्यादा शराब पिना.
  • नशीले पदार्थों का सेवन करना जैसे की अफीम, चरस आदि.
  • धूम्रपान करना यह बहोत गंभीर कारण है.
  • एंटीबायोटिक दवाओं को अधिक मात्रा में लेना.

शीघ्रपतन और शीघ्र स्खलन के कुछ घरेलू उपाय

1. प्रातःकाल खाली पेट एक पका हुआ केला एक चम्मच गाय के घी के साथ लगातार एक महीने खाने से यह बीमारी दूर होती है.
2. उड़द का आटा घी में भूनकर और मिश्री डाल कर हलवा बनायें तथा अपनी पाचनशक्ति के अनुसार प्रातः काल खायें लगातार खाने से शीघ्रपतन कम होता जायेगा.
3. 10 ग्राम घी, 5 ग्राम शहद, 10 ग्राम मुलहठी मिलाकर चाटें तथा गर्म दूध भी पीयें यह सहवास के पश्चात ही लें तो शीघ्रपतन धीरे-धीरे दूर होगा तथा शरीर में कमजोरी भी नहीं होगी.
4. सूखा धनियाँ और मिश्री बराबर मात्रा में मिलाकर पाउडर बनायें प्रतिदिन सुबह ठंडे पानी में लेने पर काफी लाभ मिलेगा.
5. लाजवंती के बीज और मिश्री बराबर मात्रा में लेकर सूखा पाउडर बनायें तथा प्रात: दूध के साथ लें, इससे वीर्य में गाढ़ापन बढ़ता है.
6.  तुलसी के बीज और मिश्री को बराबर की मात्रा में मिलाकर पाउडर बनायें तथा प्रात: दूध के साथ सेवन करें.
7. छुआरे की खीर बनाकर ठंडा करके खायें इससे वीर्य पुष्ट होगा.
8. गिलोय और वंश लोचन को बराबर मात्रा में मिलाकर पावडर बनायें तथा एक चम्मच शहद के साथ लें, शीघ्रपतन ठीक हो जायेगा.
9. दालचीनी का तेल और जैतून का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर उससे रात को सोने से पूर्व लिंग की मालिश करें तो लिंग में कठोरता आयेगी.
10. 10 ग्राम अजवायन और 20 ग्राम प्याज का रस मिलाकर पेस्ट बना लें इस पेस्ट को घी तथा शक्कर के साथ खायें, एक-दो महीने तक लेने से शीघ्रपतन दूर होगा.
11.सरसों व अरण्ड के बीज बराबर मात्रा में लेकर पाउडर बनालें तथा तिल के तेल में मिलाकर लिंग की मालिश करें.
12. लौंग का तेल लिंग पर लगाकर सहवास करने से शीघ्रपतन दूर होता है.
13. 8 बादाम की मिगी, 8 दाने कालीमिर्च, 5 ग्राम सौंठ तथा मिश्री मिलाकर पीस लें तथा प्रतिदिन सुबह दूध के साथ लें, स्तम्भन शक्ति बढेगी.

शीघ्रपतन व शीघ्र स्खलन को इलाज के लिए सड़क पर बेची जाने वाली दवाओं का प्रयोग करना क्या सही है?

हम अक्सर देकते है की सड़क किनारे कोई लोग शीघ्रपतन व शीघ्र स्खलन या फिर नपुसंकता के लिए कोई प्रकार की दवाये बेचीं जाती है. इस दवाओं से बहोत लोगो को आराम मिलता है और कुछ लोगो को आराम नहीं भी मिलता है. इस दवाओं का प्रयोग करने के पहले आयुर्वेदिक डॉक्टर के पास जाकर अपनी समस्या के बारे में परामर्श करना चाहिए.

शीघ्रपतन व शीघ्र स्खलन की समस्या में डॉक्टर से कब सम्पर्क करना चाहिए?

शीघ्रपतन व शीघ्र स्खलन एक ऐसी समस्या है जिसका जिक्र हम किसी के समने नहीं कर सकते है और बहोत से लोग इस रोग को समझ ही नहीं पते. हम इस रोग को छुपाते है और डॉक्टर को भी बताने से शरमाते है. इस कारण पुरुषों में शीघ्रपतन की समस्याएं बढ़ती चली जाती हैं और इलाज ना कराने पर नपुसंकता के लक्षण भी नजर आ सकते हैं. इसलिए अगर आपको इस रोग को पहचानकर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें और इलाज कराएँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button