स्वास्थ्य

मधुमेह के लक्षण, घरेलू उपाय और इलाज

How to Cure and Control Diabetes in Hindi

मधुमेह के लक्षण, घरेलू उपाय और इलाज – आजकल मधुमेह की बीमारी एक आम बीमारी हो गई है, जब किसी व्यक्ति को मधुमेह की बीमारी होती है, इसका मतलब है वह व्यक्ति दिन भर में जितनी भी मीठी चीजें खाता है (चीनी, मिठाई,शक्कर, गुड़ आदि) वह ठीक प्रकार से नहीं पचती अर्थात उस व्यक्ति का अग्नाशय उचित मात्रा में उन चीजों से इन्सुलिन नहीं बना पाता इसलिये वह चीनी तत्व मूत्र के साथ सीधा निकलता है, इसे पेशाब में शुगर आना भी कहते हैं. जिन लोगों को अधिक चिंता, मोह, लालच, तनाव रहते हैं, उन लोगों को मधुमेह की बीमारी अधिक होती है.

मधुमेह रोग में शुरू में तो भूख बहुत लगती है. लेकिन धीरे-धीरे भूख कम हो जाती है. शरीर सुखने लगता है, कब्ज की शिकायत रहने लगती है. अधिक पेशाब आना और पेशाब में चीनी आना शुरू हो जाता है और रोगी का वजन कम होता जाता है. शरीर में कहीं भी जख्म/घाव होने पर वह जल्दी नहीं भरता है.

मधुमेह के कुछ मुख्य लक्षण (Madhumeh ke lakshan)

  • बार बार पेशाब आना
  • लगातार भूख लगना
  • दृष्टी धुंधली होना
  • ज्यादा और बार बार प्यास लगना
  • वजन कम या ज्यादा होना
  • बिना कुछ किया ही थकान महसूस होना
  • चिड़चिड़ापन होना
  • घाव ठीक न होना या देर से घाव ठीक होना
  • अकारण ही सिरदर्द होना

मधुमेह अथवा डायबिटीज के प्रकार (Madhumeh ya diabetes ka prakar)

1.टाइप 1 मधुमेह अथवा डायबिटीज
इस प्रकार का मधुमेह आमतौर पर किशोरावस्था या जन्‍म से ही हो जाता है. इस प्रकर के मधुमेह में हमारा शरीर इंसुलिन बनाना ही बंद कर देता है.

  • टाइप 1 मधुमेह के कुछ लक्षण में लगातार पेशाब आना, भूख ज्यादा या कम लगना, थकान और धुंधली दृष्टि जैसे लक्षण है
  • उपचार में हम नियमित आहार और व्यायाम के माध्यम से इस प्रकार के मधुमेह पर काबू पा सकते है.

2.टाइप 2 मधुमेह अथवा डायबिटीज
इस प्रकार का मधुमेह आमतौर पर शरीर को पर्याप्त इंसुलिन प्रदान नहीं कर सकता है, या तो इंसुलिन का प्रतिरोध करता है.

  • टाइप 2 मधुमेह के लक्षणे में लगातार पेशाब आना, भूख लगना, थकान और धुंधली दृष्टि शामिल हैं.
  • उपचार में आहार, व्यायाम, दवा और इंसुलिन थेरेपी शामिल हैं.

डायबिटीज के मरीज क्या खाएं (Foods to be Eat in Diabetes)

डायबिटीज के मरीज क्या खाएं

शुगर के मरीज को खाद्द पदार्थ या फल सोच समझकर खाना चाहिए, इससे मधुमेह के मरीज का शुगर हाई होना खतरा होता है और यह जानलेवा भी हो सकता है. मधुमेह के मरीज को खानपान पर ध्यान देना चाहिए और उसके साथ रोजाना व्यायम करना चाहिए.

1.मधुमेह के मरीज को एक केला पूरा न खाकर एक बार में आधे केले का ही सेवन करना चाहिए, केले में कार्बोहाइड्रेट होता है.
2.डायबिटीज के रोगी को प्रतिदिन एक या आधा सेब खाना चाहिए. सेब में अधिक मात्रा में एन्टीऑक्सिडेंट होते हैं और यह कोलेस्ट्रॉल को भी कम करता है.
3.अमरुद का फल डायबिटीज के रोगी के लिए फायदेमन्द है.
4.जामुन का फल भी डायबिटीज के रोगी के लिए लाभदायक होता है.
5.नाशपती के फल में अच्छी मात्रा में विटामिन और फाइबर होता है.

डायबिटीज या शुगर के मरीज क्या ना खाएं (Madhumeh me kya nahe khana chahiye)

मधुमेह के मरीजों को खानपान में बहोत परहेज रखना ज़रुरी है, व्यायाम और परहेज की मदद से मधुमेह पे नियंत्रित पा सकते हैं.

1.डायबिटीज के रोगियों को कुछ फलों को नहीं खाना चाहिए जैसे अनानास, अंगूर, केला, सूखे मेवे और मीठे फलों का जूस भी नहीं लेना चाहिए.
2.मधुमेह के मरीजों को पके हुए आम का भी सेवन नहीं करना चाहिए.
3.सूखे मेवों का भी अधिक सेवन न करें.

मधुमेह के कुछ घरेलू उपचार (Madhumeh ke gharelu upchar)

1. कच्चे टमाटर या टमाटर का सूप पीने से मधुमेह लाभ मिलता है.
2. रात में सोने से पहले शहद के साथ त्रिफला चूर्ण लेने से आराम मिलता है.
3. आँवले का काढ़ा बनाकर और उसमें हल्दी एवं शहद मिलाकर पीने से मधुमेह की बीमारी में आराम मिलता है.
4. 2 या 3 चम्मच शहद को मिलाकर शरबत जैसा पीने पर आराम मिलता है.
5. सुबह खाली पेट ताजे और कोमल बेल पन्नों का रस निकालकर २ या ३ चम्मच पीने से मधुमेह में आराम मिलता है.
6. कच्चे केले की सब्जी खाने से मधुमेह दूर होता है.
7. सुबह-सुबह खाली पेट १० या १५ कोमल नीम की पत्तियाँ चबायें.
8. करेले के पत्तों का रस प्रतिदिन पिने से भी आराम मिलता है.
9. जामुन मधुमेह के रोगी के लिये सर्वोत्तम दवाई है.
10. प्रतिदिन आधा कप मैथी का रस पीने से मधुमेह का रोग से मुक्ति मिलती है.
11. खाने में नियमित रूप से मुली का सेवन करने से मधुमेह का रोग से मुक्ति मिलती है.
12. पिसी हुई हल्दी शहद में मिलाकर चाटने से इस रोग में आराम मिलता है.
13. मैथी के दानों में त्रिफला चूर्ण बराबर मात्रा में मिलाये और प्रतिदिन प्रातःकाल 2 चम्मच चूर्ण गुनगुने पानी के साथ ले.

मधुमेह के बरे मे सवाल (Madhumeh ke baare me sawal)

शरीर में शुगर लेवल कितना होना चाहिए?
शरीर में शुगर मात्रा 2 चरण में मापी जाती है खाना खाने से पहले और बाद में, खाने के पहले शुगर लेवल की मात्रा 70-110 के बीच होनी चाहिए और खाना खाने के बाद उसकी मात्रा 110-140 तक होनी चाहिए.

शुगर में क्या क्या परहेज करना चाहिए / शुगर में क्या खाना चाहिए?
शुगर में रोगी को बहोत सारे परहेज करने पड़ते है, अगर आपको हाई शुगर है तो आप मीठा बिलकुल नहीं खा सकते और आपको लौ शुगर है तो आप कभी कभी मीठा खा सकते है.

क्या शुगर का मरीज गुड़ खा सकता है?
जी नहीं शुगर का मरीज गुड़ नहीं खा सकता है, गुड़ चीनी का ही हिस्सा है, शुगर का मरीज शुगर फ्री सक्कर खा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button