स्वास्थ्य

दालचीनी के फायदे और औषधीय उपयोग – Dalchini ke Fayde hindi

Cinnamon (Dalchini) Benefits in Hindi

दालचीनी खाने के फायदे – दालचीनी रसोई घर में उपयोग करने वाले मसाले के साथ साथ एक अच्छी आयुर्वेदिक दवाई भी है. दालचीनी एक गुणकारी चीज है और आपको बहोत से रोगो में काम आती है. आप ऐसा भी मान सकते है की दालचीनी एक वरदान है और कोई रोगो के साथ साथ अपने रसोई घर के लिए भी उपयोगी है. Dalchini Meaning in English is Cinnamon

दालचीनी रसोई घर का एक मसाला है जिसको खाने में सुगंद लाने व खाने को बेहतर टेस्ट लाने के लिए उपयोग किया जाता है.

हम आपको दालचीनी के उपगोय, दालचीनी क्या होती है , दालचीनी के नुकसान क्या है और बहोत सी जानकारी दंगे.

Dalchini ke Fayde hindi
दालचीनी का पेड़ – Image Source – Britannica

दालचीनी क्या है और दालचीनी के पेड़ की जानकारी (dalchini kya hai hindi)

दालचीनी एक मसाला और आयुर्वेदिक दवाई है, दालचीनी हमे सिन्नेमोमम ज़ाइलैनिकम ब्राइन(Cinnamomum zeylanicum Breyn) मानक पेड़ से मिलती है. दालचीनी भूरे रंग होती है और बहोत ही मुलायम और चिकनी होती है. दालचीनी का पेड़ एक हराभरा पेड़ है, इसके फूल छोटे हरे या सफेद रंग के होते हैं. पत्तियों को मसलने पर तीखी गंध आती है. दालचीनी हमे पेड़ के छाल से मिलती है , दालचीनी के लिए छाल को निकलकर उसे सुखाया जाता है और उससे हमे दालचीनी मिलती है.

दालचीनी के कुछ मुख्य प्रकार

1. साइगॉन दालचीनी
2. कैसिया दालचीनी
3. सीलोन दालचीनी
4. इंडोनेशियन दालचीनी

1. साइगॉन दालचीनी

इस प्रकार की दालचीनी विएतनाम में पाई जाती है, यह बहोत ही मशहूर दालचीनी है, ये अपने खुशबू और टेस्ट के लिए जनि जाती है, कूमेरिन की मात्रा जाना होने के कारण इस रोजाना उपयोग में नहीं लाया जा सकता है.

2. कैसिया दालचीनी

इस प्रकार की दालचीनी चाइना में पाई जाती है, इस दालचीनी का स्वाद तीखा और हल्का कड़वा होता है, कैसिया दालचीनी का उपगोय ज्यादातर दवाइयों में होता है.

3. सीलोन दालचीनी

इस प्रकार की दालचीनी मैक्सिको में पाई जाती है और इसमे कूमेरिन की मात्रा बहोत कम होती है. इस दालचीनी को हम रोजाना उपयोग मे ला सकते है

4. इंडोनेशियन दालचीनी

यह दालचीनी अपने नाम और काम दोनों चीज के लिए मशहूर है, इस दालचीनी का लगभग 70 प्रतिशत लोग उपयोग करते है. यह बहोत ही खुशबुदार और मसालेदार दालचीनी है.

दालचीनी के फायदे और दालचीनी औषधीय के उपयोग (dalchini khane ke fayde Hindi)

1. दालचीनी का उपयोग हिचकी को ढीक करने के लिए किया जाया है, वैसे तो हिचकी आना एक बहोत आम बात है पर किसी किसी को जब हिचकी ज्यादा आती है तब वो दालचीनी का उपगोय कर सकता है. हिचकी के लिए 10 से 15 ग्राम दालचीनी का काढ़ा बनाकर पिए.
2. दालचीनी के उपयोग उलटी को रोकने के लिए भी किया जाता है. उलटी को तुरंत रोकने के लिए आप दालचीनी और लोंग का काढ़ा बनाकर पिए.
3. दालचीनी भूख को बढ़ाने में बहोत कारगर है, उसके लिए आपको दालचीनी, इलायची, शुंठी का चूर्ण बनाकर भोजन के पहले सुबह-शाम ले.
4. दालचीनी का उपयोग दांत के दर्द में बहोत ज्यादा  किया जाता है, जिसके लिए आपको दालचीनी के तेल को रूई में लेकर दांतों में लगाएं और दालचीनी के 5-6 पत्तों को पीसकर रोजना मंजन करें उससे भी आराम मिलता है.
5. सिर के दर्द के लिए 8 से 10 दालचीनी के पतों का लेप बनाकर लगाने से सिर के दर्द में आराम मिलता है.
6. दालचीनी के तेल की मालिश करे इससे भी सिर के दर्द में आराम मिलता है.
7. दालचीनी का उपयोग जुखाम के लिए किया जाता है.
8. दालचीनी का उपयोग खांसी के लिए किया जाता है, उसके लिए दालचीनी के पतों का काढ़ा बनाकर ले.
9. थोड़ी सी दालचीनी और शहद को मिलकर दिन में तीन बार ले खांसी में आराम मिलता है.
10. 10 से 15 ग्राम दालचीनी पेट के बहोत से रोगो में उपयोगी है.
11. दालचीनी का उपगोय भुखार मे भी किया जा सकता है.

दालचीनी के कुछ नुकसान

1.दालचीनी शरीर के लिए बेहत गर्म होती है, इसके अत्यधिक उपगोय से फोड़े या फुंसी आ सकती है.
2. दालचीनी का उपयोग किसी भी गर्भवती महिला को नहीं करना चहिये, इस से गर्भ गिरने का खतरा रहता है.
3. दालचीनी में कूमेरिन होता है जो की लिवर को हानि पंहुचा सकता है. दालचीनी का उपयोग रोजाना ना करे.
4. दालचीनी की जिस लोगो के एलर्जी है, वो दालचीनी का उपयोग ना करे.

दालचीनी का उपयोगी भाग (Dalchini ka upyog)

दालचीनी के पेड़ का हर भाग का उपयोग किया जाता है. दालचीनी का पेड़ बहोत ही उपयोगी है.

  • दालचीनी के पत्ते
  • दालचीनी के पेड़ की छाल
  • दालचीनी के पेड़ की जड़
  • दालचीनी के छाल व पत्ते का तेल

दालचीनी के कुछ मुख्य नाम

  • cinnamon in tamil is called இலவங்கப்பட்டை
  • cinnamon in telugu is called దాల్చిన చెక్క
  • cinnamon in hindi is called दालचीनी
  • cinnamon in bengali is called  দারুচিনি
  • cinnamon in gujarati is called તજ
  • cinnamon in marathi is called दालचिनी

अक्सर पूछे जाने वाले प्रशन

दालचीनी गर्म होती है क्या?
जी हा दालचीनी गर्म होती है, इस लिए इसका इस्तेमाल रोजाना नहीं करना चाहिए, दालचीनी का उपयोग सर्दी में किया जा सकता है और यह सर्दी के मौसम में बहोत जुकाम,वजन घटाने और गंभीर बीमारियों में प्रयोग किया जाता है.

दालचीनी कितने रुपए किलो है?
दालचीनी 700 से 800 रुपए किलो है.

और पढ़े –

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button