Uncategorized

स्मरण शक्ति व याददाश्त कम होने के कुछ लक्षण व उपाय – smaran shakti va yaadadaasht kam hone ke kuchh lakshan va upaay

How to improve memory power in Hindi

स्मरण शक्ति व याददाश्त कम होने का मतलब है आप चीजे भूल रहे है, जैसे की दरवाजा बंद करने पर भी बार बार देकना, किया हुए काम को फिर से देकना, एक या दो दिन पुरानी बाते भूल जाना, कोई चीज कही रख कर भूल जाना ऐसी कोई चीजे आपके साथ होती है. याददाश्त कम होने के कोई कारण हो सकते है.

स्मरण शक्ति ऐसा विषय है जिसके बारे में हर कोई जानना चाहता है और अपनी स्मरण शक्ति व याददाश्त को बढ़ाना चाहता है. याददाश्त उम्र बढ़ने पर कमजोर होती ही है लेकिन कुछ बच्‍चों और वयस्‍कों को भी यह दिक्त आ सकती है. ऐसी स्थिति में घबराने की जरूरत नहीं है ऐसा कुछ कारणों से होता है. स्मरण शक्ति व याददाश्त को बढ़ाने के लिए कुछ घरेलू उपाय है.

कमजोर स्मरण शक्ति आजकल पकुछ युवा लोगों में देखी जा रही है. कमजोर स्मरण शक्ति की बुढापे में भी आम शिकायत रहती है. अत्यधिक चिंता या भय से ग्रस्त होने पर  या फिर क्रोध या शोक से प्रभावित होने पर या अत्यधिक पढ़ने से स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है.

स्मरण शक्ति व याददाश्त कम होने के कुछ लक्षण (smaran shakti va yaadadaasht kam hone ke kuchh lakshan)

  • बार बार एक ही काम को करना, या फिर एक ही काम को बार बार देकना
  • किया हुए काम को भूल जाना
  • ज्यादा देर तक कुछ याद ना रख पाना
  • हमेसा नींद में रेहना
  • पढ़ते समय ज्यादा एकाग्रह नहीं होना 
  • किसी भी काम में मान ना लगना 

स्मरण शक्ति व याददाश्त कम होने के कुछ मुख्य कारण

  • समय के साथ साथ याददाश्त कमजोर होती है, या कोई बीमारी नहीं है. यह आम तोर पर 60 वर्ष के बाद ही होता है.
  • शरीर को नीद की बहोत जरुरत होती है और हम नींद पर ध्यान नहीं देते है, यह भी एक मुख्य कारण है याददाश्त कम होने का
  • संतुलित आहार या फिर पोस्टिक आहार ना लेना भी एक कारण हो सकता है.
  • किसी प्रकार का नशा करना भी एक कारण है.
  • अधिक तनाव लेना यह भी एक कारण हो सकता है.
  • किसी प्रकार की चोट जो सिर पे लगी हो,इससे भी आपकी स्मरण शक्ति जा सकती है और याददाश्त भी कम सकती है.
  • किसी प्रकार की दवाईया लेने से भी याददाश्त कम होती है.

स्मरण शक्ति व याददाश्त को बढ़ाने के लिए संस्कृत श्लोक व मंत्र

मंत्र :: ॐ नमो भगवती सरस्वती परमेश्वरी वाक्य वादिनी है विद्या देही भगवती हंसवाहिनी बुद्धि में देही प्रज्ञा देही,देही विद्या देही देही परमेश्वरी सरस्वती स्वाहा।

कुछ ऐसे आहार जिन्हे खाने से स्मरण शक्ति व दिमाग तेज बनाता है

1. बादाम

वैसे तो आप सभी लोग यह जानते है की याददाश्त व दिमाख को तेज बनाए रखने के लिए बादाम को काफी उपयोगी माना जाता है. बादाम में मौजूद पोषक तत्‍व जैसे प्रोटीन, मैगनीज, कॉपर और राइबोफ्लाविन आदि अल्‍जाइमर और अन्‍य मस्तिष्‍क संबंधी रोगों को दूर करने में मदद करते हैं. रोज रात को पांच बादाम भिगोकर रख दें और सुबह उठकर उनका सेवन करने से दिमाग तेज होता है.

2.अखरोट

अखरोट का आकार दिखने में दिमानावट जैसा ही ग की बलगता है. कई शोध के अनुसार, अखरोट अधिक न्यूरॉन ट्रांसमीटर को बनाने में मदद करता है. न्यूरॉन ट्रांसमीटर मस्तिष्क प्रक्रिया के लिए बहुत जरूरी माना जाता हैं. साथ ही अखरोट में एंटीऑक्सीडेंट के साथ साथ विटामिन-ई भरपूर मात्रा में पाया होता है. एंटीऑक्सीडेंट हमारे शरीर में मौजूद प्राकृतिक रसायनों को नष्ट होने से रोकता है और रोगों की रोकथाम भी करते हैं. अखरोट में उच्च मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है.

3.जामुन

बहोत कम लोगो को यह पता है की जामुन भी एक ऐसा फल है जिसके उपयोग से स्‍मरण शक्ति को बढ़ाया जा सकता है. जामुन में मौजूद एंथोसाइनिंस व फीसेटिन जैसे फिटोकेमिकल आपकी याददाश्त को बढ़ाने में मदद करते हैं.

4.डार्क चॉकलेट

कोई शोधकर्ताओं के अनुसार डार्क चॉकलेट भी दिमाख के लिए बहोत ही उपयोगी साबित हुई है. इसे खाने से याददाश्त दुरुस्‍त रहती है और दिमाग की कार्यक्षमता बढ़ती है. इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाया जाता है यह हमरे दिमाख में रक्त संचार को ठीक रखते हैं. डार्क चॉकलेट का अधिक सेवन ना करे इससे वजन बढ़ने का खतरा रहता है.

5.पालक

याददाश्त को तेज रखने के लिए पालक का सेवन सठिक माना जाता है. इसमें विटामिन बी 9 प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जिसे फोलेट या फोलिक एसिड के नाम से भी जाना जाता है. इसी विटामिन की कमी के कारण मस्तिष्‍क संबंधी विकार उत्‍पन्‍न होने लगते हैं. इसके अलावा दिमाग के लिए जरूरी और फायदेमंद ओमेगा-3 फैटी एसिड की प्रचुर मात्रा पालक में पाई जाती है. इसके सेवन से आपकी याददाश्त, तर्क करने की शक्ति एवं एकाग्रता बढ़ती है.

स्मरण शक्ति व याददाश्त को बढ़ाने के लिए कुछ घरेलु उपाय (smaran shakti va yaadadaasht ko badhaane ke lie kuchh gharelu upaay)

1) शंख पुष्पी को पीसकर चूर्ण बना ले और 250 ग्राम दूध में आधा चम्मच शंख पुष्पी और एक चम्मच शहद मिलाकर रोज सुबह – सुबह ले.
2) शंखपुष्पी, ब्राही,आँवला,गिलोय और जटामासी इन सभी को समान मात्रा में मिलाकर इसका चूर्ण बना ले और सुबह-शाम आधा-आधा चम्मच चूर्ण पानी के साथ लें.
3) गाय के दूध में 8-10 खजूर उबालकर पीने से स्मरण शक्ति बढ़ती है.
4) गाय के दूध में मुलहठी का एक चम्मच चूर्ण डालकर पीयें.
5) खरबूजे की मिगी कोधी मैं भूनकर चबा-चबाकर खा ने से याददाश्त बढ़ती है.
6) पीपल की पेड की छाल का चूर्ण ले और इसको शहद के साथ चाटें.
7) आम का रस, अदरक का रस, और तुलसी के पत्तों का रस बराबर मात्रा में लेकर शहद के साथ उपयोग करें.
8) पिस्ता तथा तिल के लड्डू खाने से भी याददाश्त बढ़ती है.
9) सौंफ का पाउडर बनाकर शहद में मिलाकर चाटें.
10) गेहूँ रोप रस पीने से याददाश्त बढ़ती है.
11) पीपल के चार पांच फलों का चूर्ण बनायें और एक चम्मच चूर्ण सुबह गर्म पानी के साथ ले.
12) व्यायम व योग स्मरण शक्ति बढ़ाने में बहोत मदद करता है.
13) स्मरण शक्ति बढ़ाने वाले गेम भी खेल सकते हो.
14) पांच छे बादाम रात में भीगकर रखे और सुबह उस बादाम का छिलका निकालकर दूध के साथ ले.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रष्न   

दिमाग की याददाश्त बढ़ाने के लिए क्या खाएं?
दिमाग की याददाश्त बढ़ाने के लिए आप बहोत कुछ खा सकते है, जैसे की बादाम, सौंफ का पाउडर बनाकर शहद में मिलाकर चाटें, गेहूँ रोप का रस पीये, गाय के दूध में 8-10 खजूर उबालकर पिए, पिस्ता तथा तिल के लड्डू खाये और बहोत कुछ.

सुबह सुबह दिमाग तेज़ कैसे करें?
सुबह सुबह दिमाग तेज़ करने का सबसे आसान तरीका है व्याम और योग, यह ही एक मात्र तरीका है जो बहोत जल्दी स्मरण शक्ति व याददाश्त को बढ़ाने में मदद करता है.

बच्चों के तेज दिमाग के लिए क्या करना चाहिए?
बच्चों के तेज दिमाग के लिए हमे उन्हें अच्छा पूर्ण आहार देना होता है, उनसे व्याम और योग कराये, उन्हें भरपूर नीद दे.

याददाश्त क्या है?
याददाश्त का मतलब है आपके दिमाख की कार्य करने की शक्ती जिसे हम याददाश्त कहते है, यह अगर कम हो जाती है तो आपकी याददाश्त कम हो जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button