अभ्यास

वृक्षारोपण पर निबंध – Vriksharopan par nivbandh hindi

Essay on tree plantation in Hindi

वृक्षारोपण जो हमारी प्रकृति का संतुलन बनाएँ रखती है. वृक्ष अगर ना हो तों नदियों में ना तो जल रहेगा और ना ही हमें शुद्ध जलवायु मिल पाएगी. वृक्षारोपण हमारे मानव समाज का दायित्व भी है. पुराने समय में बड़े बडे ऋषिमुनी और ज्ञानी भी वृक्ष के निचे ठंडी छाया में बैठकर ही तपस्या करते थे. इतना हि नही पुराणे समय में गुरूकूल और आश्रम में गुरू अपने शिष्य को वृक्ष के निचे हि बैठ कर पढ़ाते थे. कहा जाता है कि वनों के गोद में गुरूकुल कि स्थापना कि गई थी. हमारे भारत में मे पहले से हि वृक्षो को पूजा जाता है. हर तीज त्योहार पर भारत में वृक्ष कि पूजा होती है. वृक्षों कि जड़ो से हि वर्षा का पानी जमीन में उतरता है. आदिमानव काल में मनुष्य के भोजन कि आपूर्ति वृक्षो द्धारा हि होती थी. उनका जीवनयापन का पुरा निर्भर वृक्षो पर हि निर्भर था. (Essay on tree plantation in Hindi)

वृक्षारोपण से होने वाले लाभ (Vriksharopan ke fayde)

1. वृक्ष हमारे जीवन का आधार है. वृक्षो से हमें ऑक्सीजन मिलती है.

2. वनो से हमें हमारी सेहत के लिए ओषधीया भी प्राप्त होती है जो हमारे लिए आवशयक है.

3. वनों से प्राप्त लकडीयों से हम हमारे लिए घर भी बना सकते है.

4. वनो से कागज का भी निर्माण होता है जो हमारे रोजमर्रा कि जिन्दगी के आवशयक है.

5. वनो से हि हमें वर्षा प्राप्त होती है.

6. वन हमारे लिए प्रदूषण रोकने के लिए भी सहायक है.

7. वनो से हम कलात्मक वस्तुए बनाई जाती है.

8. वनो से हमें कोयला प्राप्त होता है.

9. वनो से हमें फल और सब्जियाँ तथा फूल भी प्राप्त होते है.

10. वनो से हमें केवल हमारे लिए हि नही बल्कि जानवरों के लिए भी भोजन कि प्राप्ती होती है.

11. वनो से हमें गोंद प्राप्त होता है, जो हमारे बहुत काम आता है.

12. वन मिट्टी कि उर्वरता को बडाते है.

13. वनो कि छाल से दवाईया बनाई जाती है.

14. वन भूमि के कटाव को रोकते है.

15. वन जल के प्रवाह को कम करते है.

16. वनो से हमें ईधन के साधन प्राप्त होते है.

वनो कि कटाई से होने वाले नुकसान

1. वनो कि कटाई से हमारे जलवायू में काफी कमी होती है जिससे हमारे ऑक्सीजन में कमी आने से हमें श्वास लेने में तकलिफ होती हे.

2. वनो कि कटाई के कारण वर्षा में कमी होने लग जाती है जिससे कई क्षेत्रो में सुखा पड़ जाता है.

3. वनो कि कटाई से पर्यावरण प्रदुषण होता है.

4. वनो कि कटाई से उद्योगो में कच्चे माल कि कमी होती है जिससे आयात निर्यात में भी कमी होने लग जाएगी तथा आर्थिक नुकसान भी होता है.

5. वनो कि कटाई से वन्य जिवो और प्राणियो को खतरा होता है.

6. वनो कि कटाई से हिमालय के ग्लेशियर पिघल रहे है जिससे मनुष्य को खतरा हो जाता है.

7. वनो कि कटाई से पीने के पानी कि कमी हो जाती है.

8. वनो कि कटाई से ईधन के साधन में भी कमी हो सकती है.

9. वनो कि कटाई से हमें आवश्यक वस्तूए जैसे टेबल,कूर्सिया, और वनो से बनने वाली ऐसी आवश्यक वस्तुए प्राप्त नही होगी.

10. वनो कि कटाई से हमारी पढ़ाई के समबंधत वस्तुए प्राप्त होना बंद हो जाएगी.

वृक्ष के बिना हमारे जिवन का कोई महत्व नही है. हिन्दु धर्म में कई वृक्षो को ईश्वर का निवास स्थान माना जाता है. जैसे नीम का पेड, पीपल का पेड़,बरगद का पेड़ आदी को हिन्दु शास्त्रों के अनुसार पूजे जाते है. वृक्षो के आस-पास रहने से हमारा मानसिक संतुलन भी अच्छा रहता है. वनों से हमारा पर्यावरण संतुलित रहता है घनें वृक्षो वाले क्षेत्रों में हमें पशु-पक्षीयों कि चहल पहल देखने को मिलती है. वातावरण भी शुद्ध रहता है.

आज देश दुनिया में वृक्षा रोपण के लिए बहुत से कार्यक्रम भी चलाए जाते है. बड़े-बड़े उद्योगो के कारण वनो में तेजी से कटाई हो रही है जिससे वायु प्रदुषण भी बड़ रहा | वनो कि कटाई से जंगल में रहने वालों जानवरों के लिए जंगलो में रहना मुशकिल हो जाता हैं. अधिकांश शहरी क्षेत्रो में पेड़-पोधे का अभाव होता है. बड़े-बड़े शहरो में मुश्किल से एक या दो किलोमिटर के क्षेत्र में एक या दो पेड़ देखने को मिलता है.

मानव का पेड़ो के साथ सम्बंध पहले से हि गहरा रहा है क्योकि मानव पहले से हि अधिकतर वस्तुओं के लिए पेडो पर हि निर्भर रहा है. पेड़ो से हि वो लकडिया प्राप्त कर इनसे हथियार बनाकर जानवरों का शिकार कर वो अपना पेट भरते आएँ है. खाना पकाने के लिए भी हमें ईधन के रूप में लकडियो कि जरूरत पड़ती है. घर के लिए आवश्यक सामान भी जैसे- टेबल कुर्सी ,चारपाई बनाने के लिए भी हमें पेड़ो कि जरूरत पड़ती है. आदिकाल से लेकर मानव आज तक भोजन पेडो से हि प्राप्त करते है. हमें हर त्योहार पर और कार्यक्रम पर एक पोधा रोपना चाहिए जिससे हमारे काफी फायदे भी हो सके.

हम आज एक पोधा उंगाएगे तो वो पेड़ हमारी आने वाली पिढ़ी के लिए लाभदायक होगा. हमारे जन्म दिन पर भी हमें वृक्षारोपण करना चाहिए ताकि हर साल हमें हमारी उम्र के हिसाब से नया यादगार पल देखने को मिले तथा वो बड़ता हुआ पेड़ हमें हमारे हर साल के जन्म दिन को याद दिलाता रहेगा. एक सुन्दर सा पौधा हमारे आस पास के वातारण को शुद्ध रखने के साथ-साथ शान्ति भी बनाए रखता है. पेड़ ठंडी हवा के साथ-साथ मन को शान्तकर आन्तिरिक खुशी भी प्रदान करता है. पर्यावरण प्रदुषण के रोकधाम के लिए हमारा वृक्षारोपण आवश्यक है. आज के मशीनी युग में हमे शुद्ध हवा नही मिल पाती है. आज हम एक वृक्ष का रोपण करेंगे तो वहीकल हमें उसी पेड से अनेक वस्तुए प्राप्त होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button