अर्थशास्त्रजानकारी

महात्मा गांधी नरेगा योजना जानकारी – Mahatma Gandhi NREGA yojana Hindi

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MGNREGA) Scheme in Hindi

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम या मनरेगा योजना हमारे देश में एक रोजगार गारंटी योजना है. जो 7 दिसंबर 2005 को विधान द्वारा अधिनियमित की गई थी. यह योजना प्रत्येक वित्तीय वर्ष में किसी भी ग्रामीण परिवार के अन्य सदस्यों को 100 दिन का रोजगार प्रदान कराती है. जो प्रतिदिन ₹220 की न्यूनतम मजदूरी पर सार्वजनिक कार्य संबंधित अकुशल मजदूरी करने के लिए तैयार है. 2010-11 वित्तीय वर्ष में इस योजना के लिए केंद्र सरकार का परिव्यय 40100 करोड रुपए था.

NREGA full form – National Rural Employment Guarantee Act

राज्य सरकारों को मनरेगा योजनाओं को लागू करने के निर्देश दिए जाते हैं. मनरेगा के तहत केंद्र सरकार मजदूरी की लागत, माल की लागत का 3/4 और प्रशासनिक लागत का कुछ प्रतिशत वहन करती है. राज्य सरकारें बेरोजगारी भत्ता, माल की लागत का 1/4 और राज्य परिषद की प्रशासनिक लागत को वहन करती हैं. चूंकि राज्य सरकार बेरोजगारी भत्ता देती हैं, उन्हें श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने के लिए भारी प्रोत्साहन दिया जाता है. हालांकि बेरोजगारी भत्ते की राशि को निश्चित करना राज्य सरकार पर निर्भर है. जो इस शर्त के अधीन है कि यह पहले 30 दिनों के लिए न्यूनतम मजदूरी के 1/4 भाग से कम ना हो और उसके बाद न्यूनतम मजदूरी का 1/2 से कम ना हो. प्रति परिवार 100 दिन का रोजगार या बेरोजगारी भत्ता सक्षम वृश्चिक श्रमिकों को हर वित्तीय वर्ष में प्रदान किया जाना चाहिए.

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम 2005 या मनरेगा योजना, देश के गरीब परिवारों को नौकरी कार्ड प्रदान करता है. जिनमें जॉब कार्ड धारक या नरेगा लाभार्थी द्वारा किए जाने वाले कार्यों की सभी जानकारी शामिल होती है. प्रत्येक वर्ष लाभार्थियों के लिए एक नया नरेगा कार्ड तैयार किया जाता है. जो कोई भी उम्मीदवार नरेगा के योग्यता और मानदंड को पूरा करेगा वह नरेगा जॉब कार्ड के लिए आवेदन कर सकता है.

मनरेगा योजना के अंतर्गत किए जाने वाले कार्य

इस योजना के अंतर्गत सभी प्रकार के कार्यों को चार भागों में बांटा गया है जो निम्नलिखित है

1. श्रेणी ए- इस श्रेणी में सभी प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन से संबंधित सार्वजनिक कार्य आते हैं. जैसे जल संरक्षण रचनाएं, जल ग्रहण प्रबंधन, सूक्ष्म और छोटे सिंचाई सरचना कार्य, परंपरागत जल स्त्रोत पूनजीबीकरण, वनीकरण, शामलात भूमि पर भूमि विकास कार्य और चारागाह विकास.

2. श्रेणी बी- इस श्रेणी में कमजोर वर्ग के लिए व्यक्तिगत परिसंपत्तियां सर्जन करना, आजीविका का विकास करना, पड़त और ऊसर भूमि का विकास करना, इंदिरा आवास योजना में 90 अकुशल श्रम दिवस कार्य भुगतान, पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए तथा मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए भौतिक संसाधन का निर्माण करना आदि.

3. श्रेणी सी- इस श्रेणी में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह के लिए भौतिक संसाधन सर्जन कार्य जैसे कि कृषि उत्पादकता बढ़ाना, बायोफर्टिलाइज़र के लिए संरचना, कृषि उत्पादन के लिए भंडारण हेतु पक्का कार्य करने जैसे निर्माण कराए जाएंगे.

4. श्रेणी डी- इस श्रेणी के अंतर्गत ग्रामीण भौतिक संसाधन से संबंधित कार्य जैसे कि ग्रामीण स्वच्छता कार्य, बारहमासी सड़क जुड़ाव, खेल मैदान का निर्माण कार्य, आपातकालीन प्रबंधन एवं रेस्टोरेशन कार्य, भवन निर्माण कार्य आदि जैसे कार्य करवाए जाएंगे.

नरेगा योजना के अंतर्गत जो कार्य नहीं आते हैं मैं निम्नलिखित हैं

नरेगा योजना के अंतर्गत सभी अकुशल कामगारों को रोजगार उपलब्ध करवाया जाता है. इस योजना के माध्यम से प्रत्येक लाभार्थी को एक वित्तीय वर्ष में 100 दिन का रोजगार निश्चित मुहैया कराया जाता है. इस योजना के माध्यम से सभी जरूरतमंद परिवारों को सामाजिक सुरक्षा के रूप में रोजगार प्राप्त होता है. इस योजना के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के कार्य करवाए जाते हैं. जैसे कि सामाजिक बिल्डिंग निर्माण, सड़क निर्माण, फार्म फॉरेस्ट्री आदि. वह सभी काम जिन्हें मापा नहीं जा सकता है और उन्हें बार-बार करवाने की आवश्यकता पड़ती है, वह काम इस योजना के अंतर्गत नहीं करवाए जा सकते. जैसे कि घास को बार-बार निकालना, कंकड़, कृषि कटाई कार्य आदि.

नरेगा जॉब कार्ड लिस्ट से संबंधित कुछ जरूरी बातें – nrega job card

नरेगा योजना का उद्देश्य भारत के प्रत्येक नागरिक तक रोजगार पहुंचाना है. इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक नरेगा जॉब कार्ड धारक को 100 दिन का निश्चित काम एक वित्त वर्ष में प्रदान किया जाता है. भारत सरकार द्वारा मनरेगा योजना को पिछले 14 सालों से संचालित किया जा रहा है. वर्तमान समय में इस योजना के अंतर्गत काम देने की प्रक्रिया सॉफ्टवेयर के माध्यम से संचालित की जाती है. जिसका नाम सिक्योर है.

पेमेंट प्रक्रिया

जिन व्यक्तियों को नरेगा के अंतर्गत काम प्रदान किया जाता है, उनको उसके लिए जो भुगतान किया जाता है, वह पेमेंट डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर के माध्यम से सीधे श्रमिक के बैंक अकाउंट में भेज दिया जाता है. इस योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी का बैंक या पोस्ट ऑफिस में खाता होना अनिवार्य है और यदि लाभार्थी का अकाउंट नहीं है, तो वह नरेगा जॉब कार्ड को दिखा कर अपना अकाउंट खुलवा सकता है. ग्राम पंचायत के द्वारा नरेगा की पेमेंट केश के माध्यम से भी की जाती है। केश के माध्यम से केवल उन्हीं इलाकों में पेमेंट की जाती है जहां पर बैंक या पोस्ट ऑफिस की सुविधा उपलब्ध नहीं होती। केश के माध्यम से नरेगा का पेमेंट लेने के लिए राज्य सरकार से अनुमति लेना अनिवार्य है.

महात्मा गांधी मनरेगा योजना की पात्रता

● आधार कार्ड
● राशन कार्ड
● पासपोर्ट साइज फोटो
● मोबाइल नंबर
● निवास प्रमाण-पत्र
● आय प्रमाण-पत्र
● आय प्रमाण-पत्र
● आवेदक अकुशल श्रम के लिए स्वयंसेवक होना चाहिए
● इस योजना के तहत आवेदक की आयु 18 वर्ष या इससे ज्यादा होनी चाहिए
● आवेदक भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए

नरेगा जॉब कार्ड के माध्यम से प्राप्त होने वाली योजनाएं

● मातृत्व शिशु एवं बालिका मदद स्कीम
● मेधावी छात्र प्रोत्साहन योजना
● विकलांगता सहायता योजना
● अक्षमता पेंशन योजना
● कन्या विवाह सहायता स्कीम
● चिकित्सा सुविधा
● संत रविदास शिक्षा सहायता योजना
● निर्माण कामगार अंत्येष्टि सहायता योजना
● महात्मा गांधी पेंशन सहायता योजना
● सौर ऊर्जा सहायता योजना
● कौशल विकास तकनीकी प्रमाणन और उन्नयन योजना
● कामगार गंभीर बीमारी सहायता योजना
● आवास सहायता स्कीम
● शौचालय सहायता योजना
● आवासीय विद्यालय स्कीम

नरेगा जॉब कार्ड बनवाने का ऑफलाइन तरीका

सबसे पहले इच्छुक व्यक्ति को ग्राम प्रधान के पास जाकर नरेगा जॉब कार्ड के अंतर्गत आवेदन करने के लिए आवेदन -पत्र प्राप्त करना होगा इस आवेदन-पत्र में पूछी गयी समस्त महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि ध्यान पुर्वक भरनी होगीं. इसके बाद सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज़ों को अटैच करके आवेदन फॉर्म ग्राम प्रधान के पास जमा कराना होगा. इस प्रकार इच्छुक व्यक्ति नरेगा जॉब कार्ड बनवाने के लिए ऑफलिने आवेदन कर सकते हैं.

नरेगा सूची में अपना नाम कैसे देखें ? (NREGA suchi me apna naam kaise dekhe)

स्टेप-1 नरेगा सूची वेबसाइट में जाइये – क्लिक करे
स्टेप-2 Job Card विकल्प को चुनें
स्टेप-3 अपने राज्य का नाम चुनें
स्टेप-4 जिला, ब्लॉक एवं पंचायत चुनें
स्टेप-5 Employment Register को चुनें
स्टेप-6 नरेगा सूची में अपना नाम देखें

और पढ़े – प्रधानमंत्री आवास योजना जानकारी – Pradhan Mantri Awas Yojana

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button