स्वास्थ्य

कमर दर्द का कारण, घरेलू उपाय और योग

Lower Back Pain Reasons, Home Remedies and Yoga in Hindi

आज कल काफी लोगों को कमर के नीचे का दर्द की शिकायत रहती है, महिलाओं को श्वेत प्रदर या मसिक धर्म की गड़बड़ी के कारण भी यह दर्द रहता है व तथा पुरूषों को अधिक परिश्रम करने या वायुप्रकोप या गलत ढंग से उठने बैठने या सोने से यह रोग हो जाता है.

पीठ दर्द किसी भी उम्र के लोगो को हो सकता है इसके बहोत से कारण हो सकते है. पीठ के निचले हिस्से में दर्द रीढ़ की हड्डी से जुड़ा हो सकता है यह रीढ़ की हड्डी और नसों, डिस्क और लिगमेंट के कारण हो सकता है. ऊपरी पीठ में दर्द का कारण महाधमनी के विकार, छाती में ट्यूमर और रीढ़ की सूजन हो सकता है.

कमर के नीचे का दर्द होने के कुछ मुख्य कारण

  • पीठ में दर्द आमतौर पर तनाव या चोट लगने से होता है.
  • पेट में वायु जमा होने से भी दर्द हो सकता है.
  • मांसपेशी का खिंचाव भी दर्द का कारण हो सकता है.
  • नुचित तरीके या कुछ भरी सामान उठाने से भी पीठ में दर्द हो सकता है.
  • अजीब तरह से या लंबे समय तक झुके रहने से भी दर्द होता है.
  • लंबे समय तक खड़े रहना या बैठना या तो फिर एक करवट सो जाना से भी पीठ में दर्द होता है.

कुछ संरचनात्मक समस्या जिसके कारण पीठ में दर्द हो सकता है

  • डिस्क का टूटना – रीढ़ में प्रत्येक कोशिकाये डिस्क द्वारा कुशल रूप से बानी होती है, यदि डिस्क फट जाती है या तंत्रिका पर अधिक दबाव पड़ता है, जिसके परिणामस्वरूप पीठ दर्द होगा.
  • उभड़ा हुआ डिस्क – जिस तरह से टूटी हुई डिस्क होती है, उसी तरह एक उभड़ा हुआ डिस्क तंत्रिका पर अधिक दबाव डाल सकता है.
  • रीढ़ की असामान्य वक्रता – यदि रीढ़ की हड्डी असामान्य तरीके से घटती या भड़ती है, तो पीठ में दर्द हो सकता है. एक उदाहरण स्कोलियोसिस है, जिसमें रीढ़ की ओर झुकाव होता है.
  • किडनी की समस्या – किडनी में पथरी या किडनी में इंफेक्शन के कारण भी पीठ में दर्द हो सकता है.
    कटिस्नायुशूल (Sciatica) – एक तेज दर्द जो की नितंब (buttock) के माध्यम से पैर के पीछे से नीचे की ओर जाता है यह दर्द तंत्रिका पर दबाव व हर्नियेटेड डिस्क के करना होता है.

कमर दर्द के घरेलू उपाय

1. एरंड के पत्तों पर सरसों का तेल लगाकर हल्का गर्म करें और उसे कमर व दर्द के जगह पर बांधे यह सबसे अधिक उपयोगी और कारगर नुस्खा है.
2. सरसों के तेल में सौंठ मिलाकर गर्म करें तथा कमर पर मालिश करें आराम मिलेगा.
3. खाली पेट अखरोट की मिगी खाने से कमर दर्द में आराम मिलता है.
4. तारपीन के तेल से मालिश करने से भी आराम मिलता है.
5. सौंठ और सेंधा नमक काली मिर्च+बायबिडंग इन सबको बराबर मात्रा में लेकर चूर्ण बनायें तथा प्रतिदिन सुबह गर्म पानी के साथ लें.
6. शीशम की छाल और उसके पत्ते को पीस लें तथा उसमें जरासी लौंग और सौंठ मिलाकर लेप बनायें और कमर पर लगायें.
7. नीम की पत्तियां पीसकर उस में बबूल का गोंद मिलायें और कमर पर लेप लगायें तुरंत आराम मिलता है.
8. सरसों के तेल में थोड़ा सा कपूर डालकर गर्म करें और कमर पर मालिश करें.
9. 100 ग्राम हरड़ और 100 ग्राम अजमोद तथा 25 ग्राम सौंठ इन सबक मिलाकर बारीक चूर्ण बनायें यह चूर्ण सुबह-शाम 1-1 चम्मच गा पानी के साथ ले.
10. पीपल की छाल का काढ़ा बनाकर सुबह-शाम लें.
11. बबूल की गोंद को पीसकर चूर्ण बनायें और आधा चम्मच सादे पानी के साथ लें.
12. कमर दर्द के लिये सबसे अच्छा उपाय यह है कि आप नियमित रूप से आसन और प्राणायाम करें.

कमर दर्द को दूर करने के लिए कुछ आसन और प्राणायाम

1. Bridges

कमर दर्द का योग bridge pose

यह आसन बहोत ही कारगर है इसमें शरीर की मस्पसिया को खिचाव मिलता है और कमर दर्द में आराम मिलता है.

इस आसन करना का तरीका

  • जमीन पर लेट जाइए और घुटनों को मोड़िए और हिप को उप्पर की और कीजिये.
  • दोनों हाथो को सीथा जमीन पर रखिये.
  • छति व हिप को ऊपर कीजिये.
  • फिर जमीन पर सीथा लेट जाय और पुरे प्रक्रिया को फिर से करे.
  • इस आसान को 15 बार करे.

2. Knee-to-chest stretches

घुटने को छाती तक खिंचाव करने से पीठ के निचले हिस्से को तनाव और दर्द से आराम मिलता है.

कमर दर्द का योग chest stretch

इस आसन करना का तरीका

  • फर्श पर सीथा पीठ के बल सो जाये.
  • घुटनों को मोड़ें और दोनों पैरों को फर्श पर सीथा रखो.
  • छाती की ओर एक घुटने को खींचने के लिए दोनों हाथों का उपयोग करें.
  • फिर दूसरे घुटने को दोनों हाथों से खींचो.
  • घुटने को 5 सेकंड तक रोको.
  • इस आसन को 5 बार करे.

3. Lower back rotational stretches

यह आसन पीठ के निचले हिस्से और ट्रंक में तनाव को दूर करने में मदद करता है,इस के साथ साथ यह आसन मांसपेशियों को भी खत्म करता है.

कमर दर्द का योग back pain yoga

इस आसन करना का तरीका

  • जमीन पैर सीधा लेट जाये.
  • दोनों हाथो का 90 डिग्री को कोण बने.
  • ऊपर के हिसे को बिना हिलाये खुट्ने को मोड़ ले और दाई व बाई साइड घुमाये.
  • एक साइड 5 से 10 सेकंड तक रोके.
  • इस आसन को एक साइड 5 बार करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button