अभ्यास

स्वतंत्रता दिवस व 15 अगस्त पर निबंध – Swatantrata Diwas par Nibandh Hindi

Independence Day Essay in Hindi

15 अगस्त 1947 कि यह तारीक इतिहास में सुनहरे अक्षरो में लिखी जा चुकि है. यह वह दिन है जिस दिन अग्रेज भारत को हमेशा के लिए छोड़कर चले गए. स्वतत्रता दिवस जो हर गुलाम के लिए बहुत हि खास और महत्पूर्ण रहा चाहे वो गुलाम कोई देश हो या व्यक्ति. सबके लिए यह दिवस उनकी जिन्दगी का सबसे पहला और खास रहा है.

पहली बार पंडित जवाहर लाल नेहरू ने राजधानी दिल्ली के लाल किले पर तिंरगे झंडे को फहराया. स्वतंत्रता दिवस को आज राष्ट्रीय अवकाश के रूप में इस दिन हर साल भारत के लोगो द्धारा स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है. इस दिन भारत अपने राष्ट्रीय ध्वज को सम्मान देता है तथा उन सब वीरों को श्रद्धाजली देता जिन्होने देश के लिए अपना बलिदान दिया. स्वतंत्रता दिवस के दिन हर राज्य के मुख्यमत्री अपने-अपने राज्य में तिरंगा फहराते है. स्वतंत्र के दिवस के दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते है. परेड करते है गोलियो कि सलामि देते है. इतना हि नहि बल्कि देश के हर राज्य के विद्याालय में अपने अपने कार्यक्रम होते है. साथ हि देश में लाल किले में ध्वजारोपन के दिन 21 तोपो कि सलामी दि जाती है.

भारत के हर नागरिक के लिए स्वतंत्रता का दिवस बहुत हि महत्व रखता है. यहि वजह है कि आज भी हम हर साल स्वतंत्रता दिवस को बड़ी धुम-धाम से बनाते है. भारत देश 200 साल से अंग्रेजो का गुलाम था अंत में सन् 15 अगस्त 1947 को भारत को पुरी तरह अंग्रेजो से स्वतंत्रता मिल गई परन्तु स्वतंत्रता दिवस भारत के लिए एक तरफ बहुत खुशी का था तो वही पर एक तरफ विभाजन का दुःख भी भारत कि स्वतंत्रता में शामिल था. देश आजादी पाकर भी पुरी तरह खुश नही था. 26 जनवरी 1949 को फिर भारत का अपना सविधान बन गया.

Swatantrata Diwas par Nibandh Hindi
स्वतंत्र के दिवस के दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते है. Red fort

भारत का सविधान का निर्माण भारत कि हर एक वस्तु को देखकर बनाया गया. स्वतंत्रता के लिए भारत के कई वीरो ने अपना लहु बहाया है और अपनी जान कि कुर्बानी दि है. आज हम आजाद है इसलिए हमें शक्र मनाना चाहिए उन वीरो का जिनकी वजह से हमने आजाद भारत में जन्म लिया है. हमें आजादी का सम्मान करना चाहिए क्योकि यह हमें खैरात में नही मिली है बल्कि लाखो वीरो और वीरागंनाओं के बलिदान से मिली है. स्वतंत्रता दिवस भारत के लिए नई रोशनी लेकर आया परंतु वही भारत कि आजादी भारत के विभाजन का कारण बनी. स्वतंत्रता दिवस के दिन हि भारत के दो टुकड़े हो गए अर्थात भारत का विभाजन हो गया. यह बात भारत के लिए हि नई बल्कि हिन्दु मुस्लिम धर्म के लिए भी एक हादसे जैसा हो गया.

एक तरफ भारत के लिए आजादी कि खुशी वही भारत के विभाजन का दुख. कुछ समझ नही आया कि क्या करे एक तरफ इतने सालो बाद मिली आजादी भी गवा नही सकते थे इसलिए विभाजन हि सही समझा गया. इस तरह भारत के स्वतंत्रता दिवस पर कुछ लोग भारत में हि रह गए और कुछ पाकिस्तान में चले गएँ एक परीवार के हि कुछ लोग इस सीमा में रह गए और वही एक परीवार के दुसरे लोग दूसरी सीमा में रह गए.

स्वतंत्रता दिवस को इंग्लिश में क्या कहते है ?

स्वतंत्रता दिवस को इंग्लिश में Independence Day कहा जाता है.

भारत कि आजादी के बाद देश में बहुत से बदलाव हुए

1)सर्वप्रथम भारत में आजादी के बाद राजनिति में बदलाव आया. आजादी के बाद से लोग राजनिति में हिससा लेने लग गए जबकि आजादी के पहले लोगो कि राजनिती में कोई राजनिती रूची नही थी, आज भारत हर रूप से स्वतंत्र है.
2)भारत में आजादी के बाद से नमक कर जैसे बहूत से कर समाप्त हो गए.
3) भारत में अग्रेजी सरकार का दबदबा हमेशा के लिए हट कर भारत कि अपनी सरकार बन गई.
4) भारत में सभी राज्यों का विलय हो गया, जिससे सभी राज्य भारत के अपने अधिकार में हो गएँ.
5) आजादी के बाद से से भारत में किसानों कि जिन्दगी को राहत मिल गई, उनके उपर लगे के अधिकतर कर समाप्त हो गएँ.
6) स्वातंत्रता के बाद भारत एक आत्मनिर्भर देश बन गया.
7) स्वतंत्रता के बाद भारत कि सारी समस्याओं का हल हो गया.
8) स्वतंत्रता के बाद भारत में आम आदमी कि जान का खतरा कम हो गया.
9) भारत कि स्वतंत्रता के बाद भारत का अपना कानुन निर्माण हुआ जिससे लोग कानुन के प्रति ज्यादा से ज्यादा जागरूक हुए.
10) भारत कि स्वतंत्रता के बाद हर त्योहार भारतिय खुशी और उल्लास से सारे त्योहार मनाने लगे.

भारत का स्वतंत्रता दिवस भारत का राष्ट्रीय पर्व है. स्वतंत्रता के बाद आज भारत में अपनी सब राष्ट्रीय खेल राष्ट्रीय मिठाई राष्ट्रीय पशु सब कुछ है. भारत कों अग्रेजो ने बहुत लुटा इतिहास में भारत को सोने कि चिड़िया भी कहा जाता था. भारत कि बहूत सी बहुमुल्य वस्तु आज भी भारत के पास नही है. स्वतंत्रता के दिन से भारत ने अपनी कोई भी बहुमुल्य वस्तुएँ नहि खोई. स्वतंत्रता दिवस के दिन भारत के हर राज्य के हर विद्यालय में मिठाईयाँ बटती है.

स्वतंत्रता दिवस के दिन देश के हर राज्य में कई कार्यक्रम होते है. विद्यालयों में कई मनोरेजन और देशभक्ति के कार्यक्रम होते है. भारत के हर नागरिक के लिए स्वतंत्र का दिवस बहुत गौरव पूर्ण होता है. 15 अगस्त 1947 का दिन भारत के लिए एक नया सवेरा लाया. आज भी वर्तमान में 15 अगस्त का दिन हम लोग हर साल खुशी के साथ मनाते है.

स्वतंत्रता दिवस कब मनाया जाता है ?
स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त (15 August) को मनाया जाता है.

भारत कब स्वतंत्र हुआ ?
भारत 15 August 1947 को स्वतंत्र हुआ.

और पढ़े –

रानी लक्ष्मीबाई (झांसी की रानी) निबंध – Jhansi ki rani lakshmibai in Hindi

वृक्षारोपण पर निबंध – Vriksharopan par nivbandh hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button